Posts

Showing posts from October, 2013

गुलाबी जाड़ा

नींद में डूबी हुयी ओस में भीगी हुयी
मखमली जाड़े का अहसास कराती
दरख्तों की कोमल नर्म-हरी पत्तियाँ
आ गयीं लो अब गुलाबी सर्दियाँ.................

शबनम को मोती सा खुद में समेटे हुए
एक-एक पंखुड़ी को खुद में लपेटे हुए
ओस में भीगी हुयी गुलाब की ये कलियाँ
आ गयीं लो अब गुलाबी सर्दियाँ..................

गुनगुनी धूप अब भाने लगी है
गर्म चाय रास अब आने लगी है
समेट लो जंगल से जा कर लकड़ियाँ
आ गयी लो अब गुलाबी सर्दियाँ..................

रात भर की ओस में खूब भीगी दूब
मखमली कालीन पर ज्यों मोती जड़े हों
टूट कर बिखरे हुए माला के मोती
जैसे धरती पर यूँ बिखरे पड़े हों,
खूबसूरत हो चलीं ये वादियाँ
आ गयी लो अब गुलाबी सर्दियाँ..................