Posts

Showing posts from October, 2010

अधूरी दास्ताँ......

Image
एक सदा थी, एक अदा थी

एक हया थी, एक वफ़ा थी

एक प्रेम का वादा था

एक मज़बूत इरादा था

एक सुहाना सपना था

एक अफसाना अपना था

एक राह भी थी, एक मंजिल भी...

दो कोमल प्यार भरे दिल भी...

एक तरफ सारा संसार

एक तरफ था मेरा प्यार

फिर, वही हुआ जो जग की रीत...

जग जीता, और हारी प्रीत...

बिछड़ गया मेरा मनमीत...

बिछड़ गया मेरा मनमीत...

-रोली पाठक

दुर्भाग्य.....

Image
राह तकते
नयन सूने

ना काजल ना चूड़ी

ना बिंदिया ना गहने

शून्य में ताकती,

रीति अंखियों से जागती,

पीड़ा से कभी चित्कारती,

उन्मादित हो, उसे पुकारती,

सब कुछ तो है जानती वह,

फिर भी क्यों ना मानती वह,

उजड़ गया रंग लाल उसका,

अब ना आयेगा कभी वह वो,

जिससे था श्रृंगार उसका...

मुस्कुराते, वह गया था

लौटता हूँ, यह कहा था

निर्जीव देह यूँ आयेगी

यह किसी को, क्या पता था...

स्टेशन के जिस कोने में,

उसका नवीन सहचर खड़ा था

आतंक का बम,

वहीँ फटा था...

मृत्यु का यम,

वहीँ खडा था....

वहीँ खड़ा था.....

-रोली पाठक


(यह कविता मैंने मुंबई सीरिअल ब्लास्ट्स के बाद टीवी पर पीड़ितों के इंटरव्यू देखने के बाद लिखी थी )

सत्य की राह....

Image
सत्य की बड़ी कठिन डगर है....

चलना उस पर, अति दूभर है...

राह में कंटक पड़े हैं देखो,

जेठ महीने सी दोपहर है...

सत्य की बड़ी कठिन डगर है...



झूठ खड़ा मुसकाय हर डग,

हमको बड़ा लुभाय हर डग,

फूल-ही-फूल बिछाय हर पग,

सत्य तो बरपाए कहर है...

सत्य की, बड़ी कठिन डगर है...



झूठ दिलाये जीवन में सुख

सत्य की राह में बहुत हैं दुःख

धन-दौलत और ऐशो-आराम....

झूठ के दूजे हैं उपनाम...

सत्य की चादर फटी हुई है...

थाली में सूखी रोटी है...

सत्य की, बड़ी कठिन डगर है....



किन्तु,

मिले जीत कंटक पे चल कर..

पाऊँ मंजिल सूर्य में तप कर...

जलती धरा पे पाँव जला कर...

सत्य को अपने ह्रदय लगा कर...

चलता चलूँ सत्य के पथ पर...

भले सत्य की, कठिन डगर है...



बने सूर्य शीतल जलधारा...

राह के कंटक करें किनारा...

जेठ महीना लगे सावन है...

सत्य का अंत बड़ा पावन है....

राह कठिन तो क्या होता है,

अंत में झूठ करे क्रंदन है...

डगर सत्य की ही जीवन है...

डगर सत्य की ही जीवन है...


-रोली पाठक http://wwwrolipathak.blogspot.com/








जय माता दी.....

Image
सर्व मंगल मांगलेय
शिवे सर्वार्थ साधिके
शरण्ये त्रिअम्बिके गौरी
नारायणी नमोस्तुते...
मेरे ब्लॉग के सभी सदस्यों को शारदेय नवरात्र पर्व की हार्दिक शुभकामनाये....