नव वर्ष


जा रहा एक और वर्ष हमसे विलग होकर
कई रक्तरंजित देह, छलनी आत्मा देकर

हो चुकी वीलीन पंचतत्व में जिसकी  देह
माँ उसे पुचकारती थी हौले-हौले से छूकर

एक नहीं है, सैकड़ों हैं -  "दामिनी" यहाँ
दे रहीं हमको सदाएं जो आज मरमरकर

आओ शपथ लें दामिनी को तेज वह  देंगे
जैसे चमकती नभ में वैसी शक्ति हम देंगे

नव चेतना की वंदना, नारी को हम मुस्कान दें
नव जागृति की प्रार्थना नारी को हम सम्मान दें
मान दें, सम्मान दें, उसको नयी पहचान दें |

- रोली पाठक

Comments

  1. नव चेतना की वंदना नारी को हम मुस्कान दें
    नव जाग्रति की प्रार्थना नारी को हम सम्मान दें
    मान दें सम्मान दें उसको नई पहचान दें

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

सुहाना सफर

गर्मी की छुट्टियां

कश्मीर की सरकार से गुहार..

मेरी नन्ही परी....

जय माता दी.....

यात्रा-वृत्तांत......

वसुंधरा......

तन्हाई

स्मृति-चिन्ह