वो ख़ुद एक आफ़ताब है,
 क्या ज़रूरत है उसे रौशनी की...
बुझा दो इन चिरागों को,
कि इनकी रौशनी जाया हो रही है.....
-रोली..
  

Comments

  1. शुक्रिया संजय जी...

    ReplyDelete
  2. न चान्द दिखेगा न तारे टिमटिमायेंगे
    सूर्य के आगे दीप खुद गुल हो जायेंगे

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

सुहाना सफर

गर्मी की छुट्टियां

कश्मीर की सरकार से गुहार..

मेरी नन्ही परी....

जय माता दी.....

यात्रा-वृत्तांत......

वसुंधरा......

तन्हाई

स्मृति-चिन्ह