कान्हा संग लगा के प्रीत
हार बैठी मन  अपना....
अब जो देखूँ  पिया को भी..
नज़र आये बैरी कान्हा...
रोज़ करती थी श्रृंगार
रुच-रुच जब मंदिर में,
कान्हा की भोली सूरत
हर गई मोरा मनवा ,
अब ना भाये कोई रंग,
बस भाये रंग सांवरा,
राधा,मीरा,रुक्मणी से,
जले मन बावरा..
चहुँ ओर अब आये नज़र,
मेरा मनभावना,
मेरा सलोना-सांवला,
नज़र आये बैरी कान्हा...

-रोली....

कृष्ण जन्माष्टमी के पावन अवसर पर
मेरे सभी मित्रों को हार्दिक शुभकामनायें _/\_

Comments

  1. pahili baar apke blog par aakar achcha laga... happy janmastmi

    ReplyDelete
  2. जन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामनाएँ।

    सादर

    ReplyDelete
  3. जन्माष्टमी की हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं !

    ReplyDelete
  4. Radha , meera, Rukmani se, jale manwa mora.

    wahhh!!!!!!!!!! roliji .wah! ye lines aapki kanha

    ke prati ananya bhakti ko darshati hai..bahut

    sundar kavita, aapka abhar.

    ReplyDelete
  5. बहुत सुन्दर भाव प्रकट किये हैं आपने ..शुभकामनायें .
    ARE YOU READY FOR BLOG PAHELI -2

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

सुहाना सफर

गर्मी की छुट्टियां

कश्मीर की सरकार से गुहार..

मेरी नन्ही परी....

जय माता दी.....

यात्रा-वृत्तांत......

वसुंधरा......

तन्हाई

स्मृति-चिन्ह