Saturday, April 21, 2012

आधी ज़िन्दगी इंतज़ार में गुजरी और
आधी ख्वाबों में गुज़र जाती है...
देखती हूँ आइना जब याद करके तुम्हे,
मेरी सूरत खुद ही संवर जाती है....

-रोली.

No comments:

Post a Comment