सोचती थी ,मन में मेरे , प्रेम शायद अब नहीं है ,
भूल थी वो, कैसे हो ये, जबकि तन में बसा ह्रदय है,
ना यहाँ बंधन वयस का, ना ही वर्षों का समय है ,
तेरा न होना ही बस इक, मेरे जीवन का तमस है .....
साथ चाहूँ मै तुम्हारा, तुम सूर्य बन हरते रहो तम,
धरा और किरणों का तुम्हारी, जैसे हो रहा समागम...........

-रोली

Comments

  1. ...बहुत सुंदर रचना रोली जी

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

सुहाना सफर

गर्मी की छुट्टियां

कश्मीर की सरकार से गुहार..

मेरी नन्ही परी....

जय माता दी.....

यात्रा-वृत्तांत......

वसुंधरा......

तन्हाई

स्मृति-चिन्ह