कभी उछलती कभी फुदकती
गेंद की तरह
कभी मचलती कभी संभलती
लहर की तरह
कभी मीलों अकेली है
साहिल की तरह
कभी शोर में डूबी हुयी
मेले की तरह
कभी ग़मगीन कभी परेशान
इंसान की तरह
कभी मासूम कभी नादान
बच्चे की तरह
एक रूप नहीं है इसका
बहुरूपिया है यह
"ज़िन्दगी" नाम है इसका
जीना है किसी तरह...........................
-रोली....

Comments

Post a Comment

Popular posts from this blog

सुहाना सफर

गर्मी की छुट्टियां

कश्मीर की सरकार से गुहार..

मेरी नन्ही परी....

जय माता दी.....

यात्रा-वृत्तांत......

वसुंधरा......

तन्हाई

स्मृति-चिन्ह