Tuesday, December 31, 2013

"सुबहें" सर्द और ये खामोशी
"दिन" में है दर्द और मायूसी
"शामें" भी तनहा-तनहा सी
"रात" में यादों की मदहोशी ।

- रोली



No comments:

Post a Comment