हरेक को तलाश है, धूप में छाँव की
मशीनों के शोर से दूर, इक गाँव की
भागती जिंदगी में, एक ठहराव की
मीलों के काफिले में, एक पड़ाव की |


- रोली

Comments

Post a Comment

Popular posts from this blog

सुहाना सफर

गर्मी की छुट्टियां

कश्मीर की सरकार से गुहार..

मेरी नन्ही परी....

जय माता दी.....

यात्रा-वृत्तांत......

वसुंधरा......

तन्हाई

स्मृति-चिन्ह