रूमानियत सारी तब फना हो जाती है
जब चाँद की जगह रोटी नज़र आती है...

तू मुझे स्वप्न में, भी नहीं दिखती है अब,
मुफलिसी मेरी, मुझे रुसवा कर जाती है...

न सूझती है अब, तेरी  जुल्फों पे शायरी मुझे,
भूख दो वक्त की, सब कुछ भुला जाती है....


कैसे लिखूँ गीत मै, लाऊं कहाँ से इक ग़ज़ल,
तू भी तो मेरी मुफलिसी से, दामन छुड़ा जाती है...

रूमानियत  सारी तब फना हो जाती है,
जब चाँद की जगह रोटी नज़र आती है.......


-रोली...

Comments

  1. सटीक और सार्थक रचना ..

    ReplyDelete
  2. रेखा जी, यशवंत जी.....शुक्रिया....

    ReplyDelete
  3. Bahut khoob likha hai Roli ji....

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

सुहाना सफर

गर्मी की छुट्टियां

कश्मीर की सरकार से गुहार..

मेरी नन्ही परी....

जय माता दी.....

यात्रा-वृत्तांत......

वसुंधरा......

तन्हाई

स्मृति-चिन्ह