Friday, May 7, 2010

म्रत्युदंड .....


मौत का भय...
होता है कितना भयावह,
अपने अंतर्मन को कचोटता,
ह्रदयगति को सहेजता,
कांपते पैरो पर
खड़ा लडखडाता
चुचुआती पसीने की
बूंदों को पोंछता
होंठो की थरथराहट
अँगुलियों की कंपकंपाहट
को काबू करने का
असफल प्रयत्न करता...
काल को प्रत्यक्ष खड़ा देख..
मन-ही-मन अपने गुनाह...
दोहराता..
रक्तरंजित शवो के ढेर,
उनके परिजनों के विलाप को
याद करता ..
दिख रहा है उसे एक काला कपडा,
एक फांसी का फंदा और
एक जल्लाद...
अपनी तरह ही, जो उसका भी,
क्रूरता से वैसे ही अंत करेगा
जैसा उसने निर्दोषों का किया...
तभी पिघले सीसे सी आवाज़ आई
उसे म्रत्युदंड दिया गया....
या अल्लाह....
कहाँ गए मेरे वो खैरख्वाह...
देते थे जो मोटी तनख्वाह...
कहते थे तू जेहादी है...
चाहते हम आज़ादी हैं,
जो तू ही हमें दिलाएगा..
इस सबाब के काम में,
सीधा जन्नत जायेगा..
या अल्लाह...
इस दोज़ख से मुझे बचाओ..
जेहाद की इस जंग से,
सबको निजात दिलाओ..
मुझे तो दे दी सजा...
उनका क्या, जो फिर कई गर्दने
तैयार कर रहे हैं...
जिनके कारण हम सब
सूली पर चढ़ रहे हैं...
एक "अजमल कसाब"मर भी गया तो क्या होगा...
जड़ें खोदो उनकी,
जिनके कारण निर्दोष मर रहे हैं..................
-रोली पाठक
http://wwwrolipathak.blogspot.com

22 comments:

  1. बहुत अच्छी प्रस्तुति।
    इसे 08.05.10 की चिट्ठा चर्चा (सुबह 06 बजे) में शामिल किया गया है।
    http://chitthacharcha.blogspot.com/

    ReplyDelete
  2. बहुत-बहुत धन्यवाद मनोज जी....

    ReplyDelete
  3. जीवन की विडंबनाओ को दर्शाती के उत्तम रचना...

    ReplyDelete
  4. हर शब्‍द में गहराई, बहुत ही बेहतरीन प्रस्‍तुति ।

    ReplyDelete
  5. मनोज जी, चिटठा-चर्चा में मेरी कविता को स्थान देने के लिए आभारी हूँ...धन्यवाद.

    ReplyDelete
  6. संजय जी, सराहना के लिए धन्यवाद...

    ReplyDelete
  7. "सम्वेदनशील एवं कई प्रश्नों को उठाती कविता जिनका कोई उत्तर नहीं है फिलहाल । मेरे ख्याल से कसाब को आगामी एक साल तक वे तमाम सुविधाएँ देना चाहिये जिनकी दरकार हर आदमी को होती है उसके बाद फिर उसे मृत्युदंड देना चाहिये ताकि उसे इस ज़िन्दगी का अहसास हो, ताकि उसे पता चल सके कि जीवन कितना अनमोल होता है...."

    ReplyDelete
  8. ...और इस निहंग साधु का क्या कहना वाह!

    ReplyDelete
  9. gajab ki kavita...philhaal to dur dur tak kasab ko fansi mile esa kam hi pratit hota hain..par phir bhi saja sunana bhi ek achha kadam kaha ja skta hain.

    ReplyDelete
  10. डिम्पल जी, प्रणव जी प्रशंसा के लिए धन्यवाद...
    प्रणव जी, अभी उच्च-न्यायलय, उच्चतम-न्यायलय
    फिर राष्ट्रपति जी के समक्ष......इस पूरी प्रक्रिया में
    बरसों लगेंगे! तब तक कारागार में कसाब को एहसास
    हो जायेगा कि उसने कितना जघन्य अपराध किया है!

    ReplyDelete
  11. केवल सजा मिलने से क्या होगा फांसी होगी भी या नहीं पता नहीं
    नपुंसक सरकार भरोसा अन्धा चहिए,,,
    लोकतंत्र बीमार भरोसा अन्धा चहिए,,,
    जनता है लाचार भरोसा अन्धा चहिए,,,
    होगा कभी सुधार भरोसा अन्धा चहिए,,,
    सादर
    प्रवीण पथिक
    9971969084

    ReplyDelete
  12. बहुत अच्छे...प्रवीण जी, सही कहा आपने..लेकिन फिर भी हमे देश कि न्यायिक-प्रक्रिया के अनुसार चलना होगा,
    अरुणेश जी, एक बार पुनः उत्साहवर्धन के लिए धन्यवाद.

    ReplyDelete
  13. हिन्दी ब्लॉगजगत के स्नेही परिवार में इस नये ब्लॉग का और आपका मैं ई-गुरु राजीव हार्दिक स्वागत करता हूँ.

    मेरी इच्छा है कि आपका यह ब्लॉग सफलता की नई-नई ऊँचाइयों को छुए. यह ब्लॉग प्रेरणादायी और लोकप्रिय बने.

    यदि कोई सहायता चाहिए तो खुलकर पूछें यहाँ सभी आपकी सहायता के लिए तैयार हैं.

    शुभकामनाएं !


    "टेक टब" - ( आओ सीखें ब्लॉग बनाना, सजाना और ब्लॉग से कमाना )

    ReplyDelete
  14. आपका लेख पढ़कर हम और अन्य ब्लॉगर्स बार-बार तारीफ़ करना चाहेंगे पर ये वर्ड वेरिफिकेशन (Word Verification) बीच में दीवार बन जाता है.
    आप यदि इसे कृपा करके हटा दें, तो हमारे लिए आपकी तारीफ़ करना आसान हो जायेगा.
    इसके लिए आप अपने ब्लॉग के डैशबोर्ड (dashboard) में जाएँ, फ़िर settings, फ़िर comments, फ़िर { Show word verification for comments? } नीचे से तीसरा प्रश्न है ,
    उसमें 'yes' पर tick है, उसे आप 'no' कर दें और नीचे का लाल बटन 'save settings' क्लिक कर दें. बस काम हो गया.
    आप भी न, एकदम्मे स्मार्ट हो.
    और भी खेल-तमाशे सीखें सिर्फ़ "टेक टब" (Tek Tub) पर.
    यदि फ़िर भी कोई समस्या हो तो यह लेख देखें -


    वर्ड वेरिफिकेशन क्या है और कैसे हटायें ?

    ReplyDelete
  15. the whole procedure is some how meddled with politics and we all know that politics corrupts the mind.

    ReplyDelete
  16. मैं अपर्ना भटनागर जैसे विचार रखता हूं। अजमल कसाब हो या अफ़जल गुरु,सुप्रिमकोर्ट के फ़ैसले के बावजूद कांग्रेस ऐसे जघन्य कृत्य के अपराधियों के मामले अपने वोट बैंक के हिसाब से ही निपटेगी।

    ReplyDelete
  17. yes Aparna ji and Alok ji, everybody knows polititions save their vote bank first. They don't care about public, society and even country, But we have faith in our judiciary, In our country, everyone get chance to prove him or her innocent, Although we all know Kasaab is guilty...but we have to follow the system.

    ReplyDelete
  18. Rajeev ji,
    Thank you. As you have asked me I have clicked that button "NO"

    ReplyDelete
  19. utkrisht rachna. kathya aur shalee dono prabhit kartee hai....

    ReplyDelete
  20. pz read "shailee". there was a typing mistake in earlier comment.

    ReplyDelete
  21. Thank u Ranjeet ji...Thanks for good comments.

    ReplyDelete