Saturday, February 27, 2010



मेरा जीवन
एक तपोवन,
व्यथित ह्रदय
आहत अंतर्मन,
मिथ्या लगते
सारे बंधन,
नयन में अश्रु
ह्रदय में क्रंदन,
मेरा जीवन
एक तपोवन.....
सावन भादों
माघ औ फागुन
पर मेरे जीवन के मानो,
जेठ माह से
सारे मौसम
आयु है लम्बी
और साँसें कम
रेशम के कीड़े
सा जीवन
मेरा जीवन एक तपोवन........

1 comment:

  1. "कम शब्दों में सुन्दर भावाभिव्यक्ति और हैप्पी होली......."
    प्रणव सक्सैना amitraghat.blogspot.com

    ReplyDelete