Friday, July 16, 2010

श्रमिक...


मजबूर हूँ

बहुत मजबूर हूँ...

स्वप्न से अपने,

बहुत दूर हूँ...

अपमान सहता हूँ,

कुछ न कहता हूँ,

नन्हे से कच्चे घरौंदे में,
मै रहता हूँ

आधा पेट खाता हूँ

और कभी-कभी
भूखा ही सो जाता हूँ,

तोड़-तोड़ के पत्थर

थक के चूर हूँ...

मजबूर हूँ हाँ,

बहुत मजबूर हूँ...

दूसरों के घर बनाता हूँ,

उनके लिए सपने सजाता हूँ,

अपने लिए बस

एक गुदड़ी है,

उसी को ओढ़ता...

और बिछाता हूँ,

तन से थका,
मन से आहत

ज़रूर हूँ ...
मजबूर हूँ हाँ,

बहुत मजबूर हूँ.....
गगन जब अगन बरसाता है
एक पर्ण छाया को तरसाता है
धू-धू जब धरा ये तपती है
तन मेरा पसीना बहाता है
देह शिथिल, मन क्लांत
जीवन से दूर हूँ
मजबूर हूँ, बहुत मजबूर हूँ......
- रोली पाठक http://wwwrolipathak.blogspot.com/

16 comments:

  1. बहुत दिनों बाद इतनी बढ़िया कविता पड़ने को मिली.... गजब का लिखा है

    ReplyDelete
  2. बहुत दिनों बाद आपके ब्लॉग पार आना हुआ

    ReplyDelete
  3. सच को कहती सुन्दर और संवेदनशील रचना..

    ReplyDelete
  4. सही कहा आपने .. मजदूर होते ही मजबूर हैं !!

    ReplyDelete
  5. bahut hi satik aur sundar rachna.......ye bhi padiye-
    http://anaugustborn.blogspot.com/2010/01/blog-post_999.html

    ReplyDelete
  6. ये हमारे श्रमजीवी समाज के चरित्र हैं – अपने बहुस्तरीय दुखों और साहसिक संघर्ष के बावज़ूद जीवंत।

    ReplyDelete
  7. मेहनत करने वालों का अपनी रचना के जरिए सम्मान करके आपने एक नेक काम किया है.
    जो लोग केवल अभिजात्य वर्ग के लिए ही लेखन करते हैं मैं तो उन्हें लेखक मानने से ही इंकार करता हूं.
    सही अर्थों में आप संवेदनशील लेखिका है
    आपको मेरी बधाई
    आपकी कलम यूं ही चलती ही इन्ही शुभकामनाओं के साथ

    ReplyDelete
  8. मंगलवार २० जुलाई को आपकी रचना ... चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर ली गयी है आभार

    http://charchamanch.blogspot.com/

    ReplyDelete
  9. samvedansheel rachna...!!sundar

    ReplyDelete
  10. एक श्रमिक का बहुत सुंदर और मार्मिक चित्रण.

    ReplyDelete
  11. आप सभी मित्रों को बहुत-बहुत धन्यवाद, मेरी रचना पसंद करने व मेरा उत्साहवर्धन करने के लिए....धन्यवाद.

    ReplyDelete
  12. संगीता जी, एक बार पुनः चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पे मेरी रचना "श्रमिक" शामिल करने के लिए आभार...बहुत-बहुत धन्यवाद.

    ReplyDelete
  13. कडवी सच्चाई से रूबरू करवाती आप की ये कविता विलक्षण है...बधाई..

    नीरज

    ReplyDelete
  14. Woh to majboor hai aur hum kya kar rahe hain un baal shramiko ke liye???????

    ReplyDelete
  15. नीरज जी, दीपेश जी....बहुत-बहुत धन्यवाद आप लोगों का..

    ReplyDelete
  16. बहुत अच्छा....मेरा ब्लागः"काव्य कल्पना" at http://satyamshivam95.blogspot.com .........साथ ही मेरी कविता "हिन्दी साहित्य मंच" पर भी.......आप आये और मेरा मार्गदर्शन करे...धन्यवाद

    ReplyDelete