जाड़े का मौसम आने को है...
दे रहीं  दस्तक गुलाबी सर्दियां...
चाँदनी रातें हो चलीं लम्बी,
छुपने लगा है सूरज 
जल्दी ही पर्वत तले,
शोख गुलाब देखो,
इतराने लगा डाल पर ,
दे रहीं दस्तक गुलाबी सर्दियां....
अलसाई धूप
देर से आती है अब मुंडेर  पर,
गुनगुनी धूप लगने लगी,
भली-भली सी,
दे रही दस्तक गुलाबी सर्दियां....
चौके से आ रही महक,
सरसों के साग की,
माँ का अधबुना स्वेटर 
अब सलाइयों पर है,
दे रही दस्तक गुलाबी सर्दियां.....

-रोली 

Comments

Post a Comment

Popular posts from this blog

सुहाना सफर

गर्मी की छुट्टियां

कश्मीर की सरकार से गुहार..

मेरी नन्ही परी....

जय माता दी.....

यात्रा-वृत्तांत......

वसुंधरा......

तन्हाई

स्मृति-चिन्ह