निशब्द सी रात
फिर चली आई है,
चाँद संग सितारों को,
लपेटे हुए....
मेरे शब्द मौन हैं
आज कितने,
अनगिनत यादों को
खुद में समेटे हुए....

-रोली..

Comments

Post a Comment

Popular posts from this blog

सुहाना सफर

गर्मी की छुट्टियां

कश्मीर की सरकार से गुहार..

मेरी नन्ही परी....

जय माता दी.....

यात्रा-वृत्तांत......

वसुंधरा......

तन्हाई

स्मृति-चिन्ह