Wednesday, February 29, 2012

पतझड़......

सूनसान सड़क पर
लाशें सूखे भूरे पत्तों की,
डाल से विलग
निर्जीव-निष्प्राण,
हवा के बहाव संग
उड़ते-बिखरते हुए ,
ज़िन्दगी का फलसफा
समझाते हुए कि
- जब तक जीवन है,
जियोगे तुम,
फिर हमारी तरह ही,
तुम्हारा भी
आ जायेगा पतझड़ एक दिन.........

-रोली.....

2 comments:

  1. बेजोड़ भावाभियक्ति....

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद सुषमा जी......

      Delete