अंतिम सत्य......................
जहाँ न हो कोई अपना
एक अँधेरी कन्दरा
बाहर पुकारते हमारे अपने,
उनकी चीखें, क्रंदन-रुदन,
और हमारी आवाज़ घुटती सी.........
जिस्म का लहू जमता सा,
देह ठंडी होती सी...
एक असहनीय पीड़ा
और...........................अंत.

-रोली

Comments

  1. जीवन का कटु सत्य है....

    ReplyDelete
    Replies
    1. जी सुषमा जी.............

      मृत्यु |

      Delete
  2. Ek bahut badi sachaai...Very Nice

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

सुहाना सफर

गर्मी की छुट्टियां

कश्मीर की सरकार से गुहार..

मेरी नन्ही परी....

जय माता दी.....

यात्रा-वृत्तांत......

वसुंधरा......

तन्हाई

स्मृति-चिन्ह