खूबसूरती कहाँ नहीं होती...........

 * बादल में बिजली में
* फूल में तितली में
* बातों में यादों में
* कसमो में वादों में
* पाने में खोने में
* अपनों संग रोने में
* सीरत में सूरत में
*  किसी की ज़रूरत में
* गीत में संगीत में,
* दोस्त में मनमीत में
*  दुलहन के श्रृंगार में
* अपनों के प्यार में
*  घटाओं में, बहार में
* मिलन में इंतज़ार में
*  अहसास में चाहत में
* दर्द में राहत में
* प्रेम में सच्चाई में
*  पानी में परछाई में
* गर ख़ूबसूरती मन में बसी है,
* तो ये दुनिया बड़ी हसीं है..............

-रोली....

Comments

  1. कोमल भावो की अभिवयक्ति......

    ReplyDelete
  2. Replies
    1. संगीता जी, सुषमा जी, यशवंत जी......बहुत-बहुत आभार ..

      Delete
  3. सुन्दर अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद संजय भास्कर जी....

      Delete

Post a Comment

Popular posts from this blog

सुहाना सफर

गर्मी की छुट्टियां

कश्मीर की सरकार से गुहार..

मेरी नन्ही परी....

जय माता दी.....

यात्रा-वृत्तांत......

वसुंधरा......

तन्हाई

स्मृति-चिन्ह