सुरमई सांझ ढलते ही,
देहरी का दीपक जलते ही,
करके सोलह सिंगार तुम,
मन-मंदिर में आ जाना......

पहन लेना सारे जेवर,
ओढ़ लेना लाल चूनर,
सजा के रोली माथे पे ,
मन-मंदिर में आ जाना.....

लगा के अधरों पे लाली,
पहन के कानो में बाली,
चल कर चाल मतवाली ,
मन-मंदिर में आ जाना....

सजा कर नैनों में काजल ,
केशों में  गूंथ कर बादल,
बाँध कर पाँव में पायल,
मन-मंदिर में आ जाना....

 



  

Comments

  1. बहुत ही मनोहारी रचना है वासंतिक श्रृंगार किये।

    ReplyDelete
  2. वाह! बहुत खुबसूरत एहसास पिरोये है अपने......

    ReplyDelete
  3. Replies
    1. संगीता जी, सुषमा जी, वंदना जी....एवं...(?) .. बहुत-बहुत धन्यवाद

      Delete

Post a Comment

Popular posts from this blog

सुहाना सफर

गर्मी की छुट्टियां

कश्मीर की सरकार से गुहार..

मेरी नन्ही परी....

जय माता दी.....

यात्रा-वृत्तांत......

वसुंधरा......

तन्हाई

स्मृति-चिन्ह