हर  कफस को लिपट कर कफ़न में कब्र तक जाना है
खाम-खां तिश्नगी दिल में लिए  फिरता ये ज़माना है

(कफस - शरीर/पिंजरा , तिश्नगी - प्यास)
 
- रोली

Comments

Popular posts from this blog

सुहाना सफर

गर्मी की छुट्टियां

कश्मीर की सरकार से गुहार..

मेरी नन्ही परी....

जय माता दी.....

यात्रा-वृत्तांत......

वसुंधरा......

तन्हाई

स्मृति-चिन्ह