Thursday, April 4, 2013


क्यूँ कर गैरों की बातें उन्हें हिचकियाँ दिलाएं
जब कि हमारे अपने भी यहाँ कहाँ कम हैं .....

- रोली

No comments:

Post a Comment