Monday, June 1, 2015

तपिश इस जून की
तेरी उल्फ़त से कम तो नहीं
हरेक बूँद पसीने की
तेरे नाम के साथ उभरती है

- रोली

No comments:

Post a Comment