Monday, June 1, 2015

ख्वाहिशें भी पनाह माँगे
कुछ ऐसा दस्तूर हो..
रहे तू निगाह में हरदम
भले ही हमसे दूर हो..
- रोली

No comments:

Post a Comment