Monday, June 1, 2015

जेठ माह की तपती किरणें
तीखे तेवर सूरज के...
तेरी यादें मीठा झरना,
मधु घट सी शीतलता दें...
स्वेद की बूँदें बनी हों जैसे,
सावन की वो प्रथम फुहार...
तन-मन जिस में भीग-भीग कर,
गुनगुनाये राग मल्हार ।
स्मृतियाँ जो संग रहें तो,
जेठ माह भी सावन है
तन हो खारा-खारा तो क्या,
मन तो शीतल पावन है ।

- रोली

2 comments:

  1. "स्मृतियाँ जो संग रहें तो जेठ माह भी सावन है"

    ReplyDelete