जेठ माह की तपती किरणें
तीखे तेवर सूरज के...
तेरी यादें मीठा झरना,
मधु घट सी शीतलता दें...
स्वेद की बूँदें बनी हों जैसे,
सावन की वो प्रथम फुहार...
तन-मन जिस में भीग-भीग कर,
गुनगुनाये राग मल्हार ।
स्मृतियाँ जो संग रहें तो,
जेठ माह भी सावन है
तन हो खारा-खारा तो क्या,
मन तो शीतल पावन है ।

- रोली

Comments

  1. "स्मृतियाँ जो संग रहें तो जेठ माह भी सावन है"

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

सुहाना सफर

गर्मी की छुट्टियां

कश्मीर की सरकार से गुहार..

मेरी नन्ही परी....

जय माता दी.....

यात्रा-वृत्तांत......

वसुंधरा......

तन्हाई

स्मृति-चिन्ह