होली शुभ हो....


फागुन की बयार, रंगों की फुहार
सरसों पीली, चूनर गीली..
अबीर-गुलाल
हरे,पीले,लाल..
राधा चली पनघट
किशन जमना तट
राधा को न भाएँ रंग ये हजार
एक बस श्याम रंग
उसे लुभाता है
लाल,हरे पीले रंग में
बस श्याम नज़र आता है....
आप सभी को होली की इन्द्रनुषी शुभकामनाएं....
-रोली पाठक.
http://wwwrolipathak.blogspot.com/

Comments

  1. "ये छोटी-सी कविता वाकई में रंग-बिरंगी थी....."
    amitraghat.blogspot.com

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

सुहाना सफर

गर्मी की छुट्टियां

कश्मीर की सरकार से गुहार..

मेरी नन्ही परी....

जय माता दी.....

यात्रा-वृत्तांत......

वसुंधरा......

तन्हाई

स्मृति-चिन्ह