Tuesday, March 9, 2010





रातों को नींद नहीं आती
दिन भी यूँ ही ढल जाता है
गलती से तेरा जो,
ज़िक्र निकल आता है

http://wwwrolipathak.blogspot.com/

2 comments: