Friday, September 9, 2011

आज प्यार की तुम ही पहल कर दो,
दिन को गीत रात को ग़ज़ल कर दो,
सजा दो चाँद-तारे मोहब्बत के आसमाँ पर,
मेरे उजड़े आशियाने को,महल कर दो.....

-रोली

 

 

3 comments: