सिलसिला ज़ारी है,
इन बरसातों का,
थमती ना थीं जैसे,
तेरी बातों का......


-रोली.




 

Comments

  1. संजय जी एवं संगीता जी....
    बहुत बहुत शुक्रिया...........

    ReplyDelete
  2. Silsila.....behad khoobsurat Ehsaas..

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

सुहाना सफर

गर्मी की छुट्टियां

कश्मीर की सरकार से गुहार..

मेरी नन्ही परी....

जय माता दी.....

यात्रा-वृत्तांत......

वसुंधरा......

तन्हाई

स्मृति-चिन्ह