वो मुझसे नाता तोड़ता भी नहीं,
दूर है फिर भी मुँह मोड़ता नहीं ,
चाहा है उसे दिल से भुलाना कई बार,
 वो है कि फिर भी साथ छोड़ता नहीं.....
 
रोली

Comments

  1. ..........दिल को छू लेने वाली प्रस्तुती

    ReplyDelete
  2. Chaha hain use dil se bhulana kai baar...Waah kya baat hai..

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

सुहाना सफर

गर्मी की छुट्टियां

कश्मीर की सरकार से गुहार..

मेरी नन्ही परी....

जय माता दी.....

यात्रा-वृत्तांत......

वसुंधरा......

तन्हाई

स्मृति-चिन्ह