दिल......

 बड़ा गुस्ताख है,
नादान है, मासूम है,
कभी मगरूर है, मसरूफ है,
कभी मजलूम है....
कभी है बेवफा,
तो कभी जां-निसार है,
कभी उजड़ा चमन,
तो कभी मौसमे-बहार है,
कभी लगता है अपना,
तो कभी बेगाना है ये,
थोडा सा पागल,
थोडा दीवाना है ये,
कभी नटखट सा इक बच्चा,
कभी सयाना है ये,
कभी खामोश और तनहा,
कभी कातिल है...
क्या करें कि फिर भी
दिल आखिर दिल है...........
दिल आखिर दिल है.............

-रोली...

Comments

  1. दिल आखिर दिल है ...सही कह रही हैं आप।

    सादर

    ReplyDelete
  2. दिल तो है दिल दिल का एतबार क्या कीजिये..... सुन्दर...

    ReplyDelete
  3. धन्यवाद यशवंत जी एवं सुषमा जी...

    ReplyDelete
  4. खूबसूरत रचना , बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  5. शुक्रिया शुक्ला जी......आभार..

    ReplyDelete
  6. बहुत खूब - दिल तो बच्चा है जी

    ReplyDelete
  7. कल 12/09/2011 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  8. यशवंत जी ,बहुत-बहुत धन्यवाद एवं आभार...........

    ReplyDelete
  9. बहुत ही बढि़या ।

    ReplyDelete
  10. सुंदर और दिल को छु लेने वाली रचना ,शुभकामनाए

    ReplyDelete
  11. वाह... सुन्दर...
    सादर...

    ReplyDelete
  12. दिल तो दिल है ...बहुत खूब

    ReplyDelete
  13. सदा जी, वंदना जी, प्रवीणा जी, हबीब जी, रेखा जी....बहुत बहुत धन्यवाद....

    ReplyDelete
  14. Sach hai DIL TO AAKHIR DIL HAI....bahut khoob...

    ReplyDelete
  15. Dil ki baat Dil ke sath hi ki ja sakti hai. bahut sundar rachna hai Roli Bahan

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

सुहाना सफर

गर्मी की छुट्टियां

कश्मीर की सरकार से गुहार..

मेरी नन्ही परी....

जय माता दी.....

यात्रा-वृत्तांत......

वसुंधरा......

तन्हाई

स्मृति-चिन्ह