Thursday, March 14, 2013

भ्रष्टाचार

आज फिर अटक गयी नज़र
मुख्य पृष्ठ की हेडलाइन पर
आजकल कमबख्त अखबार
सुनाता है बस यही समाचार -
पीडब्ल्यूडी विभाग का है इंजीनियर
लाखों दबा लिए अंदर-ही-अंदर ...
खोला गया जब, जनाब का लॉकर
उगले उसने लाखों के जेवर
सोना-चाँदी- हीरे , नगदी और एफ.डी.
और ज़मींन-जायदाद के पेपर ...
विभाग के ही एक प्रतिद्वंदी ने,
की थी आयकर विभाग को खबर
पूछताछ में इधर -
गिड़गिड़ाया इंजीनियर -
हुज़ूर,  मैं तो इक छोटा सा मोहरा हूँ
क्यूँ मेरी गर्दन दबा रहे हैं
पकड़ो उन अफसरों को
जो मेरे मार्फ़त खा रहे हैं ...
किन्तु ये ना भूलना साहब,
लिस्ट में आपके अफसरों के भी,
नाम आ रहे हैं ......
देता हूँ सबूत संग, नामों की लिस्ट
क्या पकड़ पायेंगे ,उन लोगों की रिस्ट ....???
खा गया लिस्ट देख कर चक्कर,
वो बेचारा आयकर का ईमानदार अफसर
किस नेता को छोडूँ, किस अफसर को पकडूँ
ये तो सारे-के-सारे , हैं घनचक्कर ।
इसीलिए मेरा ये देश लुटा जा रहा है
लुट गयी सोने की चिड़िया,
सिस्टम अब उसका माँस भी खा रहा है ...

- रोली


2 comments:

  1. बहुत सुन्दर ,ऊपर से नीचे तक सब चिड़ीमार है .सोने की चिड़िया को मार कर उसका मास खा रहा है ,खून चूस रहा है
    latest postउड़ान
    teeno kist eksath"अहम् का गुलाम "

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया सर....आभार आपका |

      Delete