........................................................................

कहाँ रही अब वो शिद्दत किसी उल्फत में,
कि आँखें भर आती थीं सिर्फ नाम लेने से ...

- रोली
.........................................................................

Comments

Popular posts from this blog

सुहाना सफर

गर्मी की छुट्टियां

कश्मीर की सरकार से गुहार..

मेरी नन्ही परी....

जय माता दी.....

यात्रा-वृत्तांत......

वसुंधरा......

तन्हाई

स्मृति-चिन्ह