===================================
आशुफ़्ता सा मुझे वो हर रोज़ नज़र आता है
पूछने पर नाम अपना वो "आदमी" बताता है
आसिम नहीं,कातिल नहीं, गुनाहगार नहीं वो
पूछने पर खता उसकी वो,इंसानियत बताता है

- रोली

(आशुफ़्ता - बौख़लाया हुआ, घबराया हुआ
आसिम - पापी)
====================================

Comments

Popular posts from this blog

सुहाना सफर

गर्मी की छुट्टियां

कश्मीर की सरकार से गुहार..

मेरी नन्ही परी....

जय माता दी.....

यात्रा-वृत्तांत......

वसुंधरा......

तन्हाई

स्मृति-चिन्ह