आया फागुन.......

अहाते में मेरे
धूप का नन्हा सा टुकड़ा
रोज़ उतर आता है...
इस सर्द सुबह में
वह नन्हा सा टुकड़ा
भला-भला सा नज़र आता है...
टेसू की चटकती कलियों से
चुरा के रंग वह
मेरी चूनर में दे जाता है.....
आँगन में चहचहाती वह
नन्ही सी चिड़िया,
दाने चुग-चुग के
आभार प्रकट करती है....
सांझ-सवेरे उसका कलरव
मेरा मन हर लेती है...
कोयल कूक सुनाने लगी,
बौर की खुश्बू आने लगी,
बदल गयी रुत
सुनाई देने लगी
भवरें की गुनगुन
दे दी है दस्तक
मीठी बयार ने,
ऐपन लगी देहरी पे
देखो खड़ा है फागुन....

Comments

  1. बहुत अच्छी लगी आपकी कविता.

    सादर

    ReplyDelete
  2. यशवंत जी, बहुत बहुत शुक्रिया.........

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

सुहाना सफर

गर्मी की छुट्टियां

कश्मीर की सरकार से गुहार..

मेरी नन्ही परी....

जय माता दी.....

यात्रा-वृत्तांत......

वसुंधरा......

तन्हाई

स्मृति-चिन्ह