तिनका-तिनका ढूँढ कर
लाती चुन-चुन कर...
बड़ी लगन से,
बड़े जतन से,
बुनती अपना घर....
छज्जे से झरोखे से,
मै देखूँ छुप-छुप कर,
करती अथक परिश्रम,
जबकि, हैं छोटे से पर,
हम इन्सां तो हार बैठते,
हौसला अक्सर.....
ऐ नन्ही-सी चिड़िया मुझको,
भी जीना सिखला दे,
कितनी भी हो राह कठिन,
संघर्ष मुझे सिखा दे....
तेरे नीड़ सी मेरी भी,
मंजिल मुझको दिखला दे......
-रोली....

Comments

Popular posts from this blog

सुहाना सफर

गर्मी की छुट्टियां

कश्मीर की सरकार से गुहार..

मेरी नन्ही परी....

जय माता दी.....

यात्रा-वृत्तांत......

वसुंधरा......

तन्हाई

स्मृति-चिन्ह