Monday, August 6, 2012

हमारे शब्द जिनको शूल और नश्तर चुभोते हैं....
जुबां खामोश रखकर अब उन्हें हम कुछ न बोलेंगे |

- रोली ...

No comments:

Post a Comment