Monday, August 6, 2012

मौसम खुशगवार हो गया
ख़त्म सबका इंतज़ार हो गया
लो बरस पड़े टूट के बादल,
आसमाँ को फिर ज़मीं से प्यार हो गया.....
- रोली...

1 comment: