Monday, August 6, 2012

पहले अपने हुए...फिर बहुत अपने...और अब गैर हो रहे हैं
कैसा है ये अजब दस्तूर ज़माने का, अपनों से बैर हो रहे हैं ..

- रोली...

2 comments:

  1. खुबसूरत अभिवयक्ति.....

    ReplyDelete
  2. Yeh dastoor chalta raha hai...aur chalta rahega...Behtreen..

    ReplyDelete