Monday, August 6, 2012

कुछ अनकही अधूरी बातें
भीड़ भरे दिन तनहा रातें
कैसे भला भुलायेंगे हम
बिन मौसम की वो बरसातें.........

- रोली..

1 comment: