Monday, August 6, 2012

ये बारिश है या अश्क हैं बादलों के,
कभी थमते हैं सिसकते हैं और कभी रुकते ही नहीं.........

1 comment: