सिलसिला कुछ यूं चल पड़ा है हमारे दरमियां कि
बगैर गिले-शिकवे के उल्फत अधूरी लगती है।
रूठने-मनाने का दस्तूर यूं ही चलता रहे कि
यह बात इस रिश्ते में बहुत ज़रूरी लगती है।

Comments

  1. Hunmmm...sach mein roothne manane ke bina ulfat adhoori hi rehti hai..

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

सुहाना सफर

गर्मी की छुट्टियां

कश्मीर की सरकार से गुहार..

मेरी नन्ही परी....

जय माता दी.....

यात्रा-वृत्तांत......

वसुंधरा......

तन्हाई

स्मृति-चिन्ह