Saturday, September 1, 2012

सिलसिला कुछ यूं चल पड़ा है हमारे दरमियां कि
बगैर गिले-शिकवे के उल्फत अधूरी लगती है।
रूठने-मनाने का दस्तूर यूं ही चलता रहे कि
यह बात इस रिश्ते में बहुत ज़रूरी लगती है।

1 comment:

  1. Hunmmm...sach mein roothne manane ke bina ulfat adhoori hi rehti hai..

    ReplyDelete