मेरी ख़ामोशी को मेरी कमजोरी न समझना
बादलों जैसी मेरी फितरत नहीं गरजने की
मै वक़्त हूँ ..............बेआवाज़ चलता हूँ
गर बुरा हुआ तो मोहलत भी ना दूंगा संभलने की |

- रोली..

Comments

  1. Khamoshi apne aap mein ek bahut badi taqat hai...jab tootti hai toh tufaan aate hai..

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

सुहाना सफर

गर्मी की छुट्टियां

कश्मीर की सरकार से गुहार..

मेरी नन्ही परी....

जय माता दी.....

यात्रा-वृत्तांत......

वसुंधरा......

तन्हाई

स्मृति-चिन्ह