तेरे खत जलाना भी सजा कम ना थी
इतना तो बिछड़ के भी रोये ना थे हम.....
कतरा-कतरा आँसू मिटाते रहे लफ़्ज़ों को
और न जाने कितनी रातें सोये नहीं हम.......

- रोली

Comments

  1. Kisi ke pyar bhare khat jalaana ...bahut hi badi saza hai...Bahut khoob !!!!

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

सुहाना सफर

गर्मी की छुट्टियां

कश्मीर की सरकार से गुहार..

मेरी नन्ही परी....

जय माता दी.....

यात्रा-वृत्तांत......

वसुंधरा......

तन्हाई

स्मृति-चिन्ह