कितने ही दर्द से हम हर रोज़ गुज़र जाते हैं,
ज़िंदा रहते हैं और पल भर को मर जाते हैं
आँसू भले ही कितनी भी बिगाड़ दें मेरी सूरत,
किसी और के सामने इसे तुरंत संवार जाते हैं......
रखा है छुपा कर अपने हरेक ज़ख्म को दिल में ,
क्या करें कि हर टीस से ये फिर उभर आते हैं.......
- रोली

Comments

  1. Dard..Ansoo..yah toh zindgi ka ek bada hissa hai..Beautiful

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

सुहाना सफर

गर्मी की छुट्टियां

कश्मीर की सरकार से गुहार..

मेरी नन्ही परी....

जय माता दी.....

यात्रा-वृत्तांत......

वसुंधरा......

तन्हाई

स्मृति-चिन्ह