Saturday, September 1, 2012

ऐ सितमगर कब तलक ये सितम सहते रहें हम
तुम करों गैरों से बातें और यूँ खामोश रहें हम.....

- रोली

2 comments: