Monday, September 24, 2012

सीलन....


कतरे-कतरे धूप के
समेट कर मुट्ठी में,
तेरी यादों की सीलन को,
दिखाना है मुझे...
अश्कों की बारिश से,
उभर आई है जो,
दिल की दीवारों पर...
उसे अब वक्त के रहते,
हटाना है मुझे.....
यादों के उन धब्बों को,
खुरच-खुरच कर ,
मिटाना है मुझे......

- रोली ...

6 comments:

  1. बहुत खूब - मर्मस्पर्शी

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद राकेश जी...

      Delete
  2. My dear Roli ji yaadon ko mitana itna asaan nahi hota...vaise bahut khoob likha hai !!!!

    ReplyDelete
    Replies
    1. मेरे अनाम मित्र, आपका कहना सही है...लेकिन स्मृतियों को ह्रदय से लगा कर रखा जाये तो वर्तमान प्रभावित होता है |

      Delete
  3. गहरे जज्बात...लाजवाब |
    सही में यादों को मिटाना इतना आसान नही होता...वक्त के साथ बस यादें ही है जो कभी नही बदलती...|

    सादर नमन |

    ReplyDelete
    Replies
    1. सत्य वचन मंटू कुमार जी, आप ब्लॉग पे पधारे ...शुक्रिया :)

      Delete