साहिल पे रह कर तिश्नगी
सहरा में रह के खुश थे हम......
अश्कों से होती नहीं तकलीफ़ हमें
खुश हैं अब हम सह के गम........

- रोली

Comments

  1. Kabhi Kabhi gam hi khushi karan ban jaata hai...Bahut Khoob Roli ji

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

सुहाना सफर

गर्मी की छुट्टियां

कश्मीर की सरकार से गुहार..

मेरी नन्ही परी....

जय माता दी.....

यात्रा-वृत्तांत......

वसुंधरा......

तन्हाई

स्मृति-चिन्ह