हसरतें लाख दिल को लुभाया करें
ज़ेहन में हकीकत बनी रहती है....
क्या करें कि हमेशा इन दोनों में
इसीलिए तो ठनी रहती है ...
- रोली


Comments

  1. Hunhmmmm...Kya kare Dil toh aakhir dil hai maanta hi nahi..

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

सुहाना सफर

गर्मी की छुट्टियां

कश्मीर की सरकार से गुहार..

मेरी नन्ही परी....

जय माता दी.....

यात्रा-वृत्तांत......

वसुंधरा......

तन्हाई

स्मृति-चिन्ह