मसखरा प्रेम....

पूछती हूँ मै तुमसे -
कब रेत में रगींन  फूल खिलेंगे ..!!!
कहते हो तुम  -
जब पानी में हम-तुम  मिलके शब्द लिखेंगे ...
सोचती हूँ
कब सितारे टूट कर आँचल में गिरेंगे ..!!!
कह देते हो -
चाँद-सूरज जब कभी फलक पर मिलेंगे ...
पूछती हूँ -
क्या बादल बरसेंगे जेठ महीने में......!!!
कहते हो तुम -
पूस में इस बार रगीं टेसू खिलेंगे ....
कहती हूँ मै -
देखना है इंद्रधनुष को छत पर उतरा ...
हँसते  हो तुम-
देख लेना अपनी चूनर को छत पर बिखरा ...
नाराज़ हूँ मै -
कुछ भी कहते हो , ये भी कोई बात हुई .....!!!
खिलखिला उठते हो तुम -
"प्रेम में है..हर बात सही ...हर बात सही।"

- रोली ..

Comments

  1. Prem mein har baat sahi..har baat sahi...Waah Waah !!!

    ReplyDelete
  2. प्रेम में उलट पुलट जाते हैं मौसम सारे !

    ReplyDelete
    Replies
    1. सत्य कहा आपने .....
      धन्यवाद "वाणी-गीत"

      Delete
  3. प्रेम का मसखरा रूप अच्छा लगा।


    सादर

    ReplyDelete
  4. प्रेम की हर बात ऐसी हो होती है ...
    ये चुहल प्रेम की सांस है ... बहुत खूब ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. दिगंबर जी.....बहुत-बहुत धन्यवाद |

      Delete

Post a Comment

Popular posts from this blog

सुहाना सफर

गर्मी की छुट्टियां

कश्मीर की सरकार से गुहार..

मेरी नन्ही परी....

जय माता दी.....

यात्रा-वृत्तांत......

वसुंधरा......

तन्हाई

स्मृति-चिन्ह